Categories
sports

अलीबाग में तूफान निसर्ग का सबसे ज्यादा असर देखा गया, रत्नागिरी में तेज हवा में टीन शेड उड़ गए


दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 03:02 PM IST

मुंबई. तूफान निसर्ग का सबसे ज्यादा असर बुधवार को महाराष्ट्र के अलीबाग और रत्नागिरी में देखा गया। यहां हवा की रफ्तार काफी ज्यादा रही। रत्नागिरी में टीन शेड उड़ते देखे गए। यहीं एक जहाज फंस गया और समुद्र किनारे जा पहुंचा। उधर, अलीबाग में कई खिड़कियों के शीशे टूट गए। देखें तूफान का असर बताते चुनिंदा वीडियोज…

Categories
sports

सेना ने सोशल मीडिया पर जवानों के भिड़ने की वीडियो को फेक बताया, कहा- सीमा पर कोई हिंसा नहीं हुई


  • पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर बढ़ते तनाव को सैन्य कमांडरों की बीच बातचीत के जरिए सुलझाने को कहा
  • सेना ने मामले को तूल न देने की सलाह दी, कहा- ये फेक वीडियो भी न चलाया जाए

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 08:02 PM IST

नई दिल्ली. पूर्वी लद्दाख में भारत-चीन के सीमा विवाद को लेकर सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो को सेना ने फेक बताया है। बयान जारी करके सेना ने इस वीडियो को खारिज किया है। यह भी कहा कि चीन सीमा पर अभी कोई हिंसा नहीं हो रही है। दोनों देशों के बीच के मतभेद भी सैन्य कमांडरों की बीच बातचीत के जरिए सुलझाया जाएगा। 

सेना ने बयान में कहा है, “वायरल हो रहा वीडियो सत्यापित नहीं है। इसे उत्तरी सीमाओं की स्थिति से जोड़ने का प्रयास किया गया है। जो कि गलत है। भारत-चीन के बीच मतभेदों को प्रोटोकॉल के तहत मिलिट्री कमांडर के बीच आपसी बातचीत के जरिए सुलझाने की कोशिश की जा रही है।

मीडिया पर दिखाकर माहौल न खराब करें
सेना ने कहा, ”इस मामले को सनसनीखेज बनाने की कोशिश की गई। इसकी हम सख्त निंदा करते हैं और मीडिया से अपील है कि वह इस तरह की वीडियो ना दिखाएं जिससे सीमा पर तनाव बढ़े और माहौल खराब हो।”

वायरल वीडियो में दोनों देश के जवाब भिड़ते नजर आए थे
कुछ दिनों पहले एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ था। इसमें भारत और चीन के जवान आपस में भिड़ते नजर आ रहे हैं। हालांकि वीडियो से यह साफ नहीं हुआ था कि ये कब और कहां का वीडियो है। 

लद्दाख बॉर्डर पर चीन की हरकतें बढ़ीं

लद्दाख में भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस दौरान चीन ने अपने इलाके में सैन्य तैयारियां तेज कर दी हैं। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चीनी सेना भारी वाहनों से तोप और दूसरे हथियार जमा कर रही है। जहां से इन्हें कुछ ही घंटे में भारतीय सीमा पर लाया जा सकता है। चीन की यह हरकत इसलिए शक पैदा करती है, क्योंकि इसी दौरान बटालियन और ब्रिगेड लेवल पर सैन्य अफसरों की बातचीत भी चल रही है। अब तक चीन के सैनिक विवाद वाली जगहों से लौटे नहीं हैं। भारतीय सैनिक भी यहां मुस्तैदी से मोर्चा संभाले हुए हैं।  

Categories
sports

राहुल गांधी आज प्रवासी मजदूरों पर एक डॉक्युमेंट्री जारी करेंगे, इसमें उनके जज्बे, संकल्प और जीने की कहानी होगी


  • राहुल ने ट्वीट कर बताया- मेरे यूट्यूब चैनल पर मजदूरों के धैर्य, दृढ़ संकल्प और अस्तित्व की अविश्वसनीय कहानी देखिए
  • कांग्रेस मजदूरों की वापसी पर केंद्र को लगातार घेर रही है, सोनिया गांधी ने शुक्रवार को कहा- सरकार हर मोर्चे पर फेल हो गई

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 08:13 AM IST

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने 16 मई को दिल्ली में प्रवासी मजदूरों से मुलाकात की थी। वे शनिवार सुबह 9 बजे अपने यूट्यूब चैनल पर इन मजदूरों से जुड़ी एक डॉक्युमेंट्री लाइव करेंगे। इसमें मजदूरों के जज्बे, संकल्प और जीने की कहानियां शामिल होंगी।

राहुल ने इसकी जानकारी ट्वीट कर दी। उन्होंने लिखा, ‘शनिवार सुबह 9 बजे इन मजदूरों की धैर्य, दृढ़ संकल्प और अस्तित्व की अविश्वसनीय कहानी देखिए।’

राहुल ने मास्क बांटे और मजदूरों को घर तक पहुंचाया था

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने पिछले शनिवार को दिल्ली में सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास प्रवासी मजदूरों से 30 मिनट मुलाकात की थी। उनके साथ फुटपाथ पर बैठकर बातचीत की थी। मास्क, खाना और पानी दिया। उन्होंने कार्यकर्ताओं से बोलकर गाड़ियां मंगवाईं और कुछ मजदूरों को घर तक पहुंचाया था।

वित्त मंत्री ने राहुल का बिना नाम लिए कहा था- वो ड्रामेबाज नहीं हैं क्या?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बिना नाम लिए राहुल गांधी पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा, “प्रवासी जब पैदल जा रहे हैं तो उनके साथ बैठकर बात करने की बजाय बेहतर होगा कि उनके बच्चों या उनके सूटकेस को उठाकर पैदल चलें। दुख के साथ कह रहूं इस बात को, जबकि आराम से भी कह सकती हूं। कांग्रेस अपनी सरकारों वाले राज्यों को क्यों नहीं बोलती कि और ट्रेन मंगवाओ। मैं कांग्रेस के ही शब्दों में कह रही हूं कि कांग्रेस हर दिन ड्रामेबाजी कर रही है। कल प्रवासियों के साथ रास्ते पर बैठकर बात करने की जो घटना हुई, क्या ये ऐसा करने का समय है? वो ड्रामेबाज नहीं हैं क्या?”



Categories
sports

कराची एयरपोर्ट पर लैंडिंग से महज एक मिनट पहले रिहायशी इलाके में पैसेंजर प्लेन क्रैश, 98 लोग सवार थे; 5 साल के बच्चे समेत 35 शव निकाले गए


  • लैंडिंग से पहले प्लेन का इंजन फेल हो गया था, उसमें धमाके के साथ आग लग गई थी
  • पीआईए का यह प्लेन 15 साल पुराना था, पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की थी

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 07:10 PM IST

कराची. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक पैसेंजर प्लेन शुक्रवार को कराची के रिहाइशी इलाके में क्रैश हो गया। पीआईए की फ्लाइट पीके 8303 लाहौर से कराची आ रही थी। एयरपोर्ट से एक किलोमीटर की दूरी पर और लैंडिंग से करीब एक मिनट पहले प्लेन का इंजन फेल हो गया। उसमें आग लग गई और वह जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचने से पहले ही क्रैश हो गया। प्लेन में 91 यात्री और 7 क्रू मेंबर में सवार थे। इनमें 51 पुरुष, 31 महिलाएं और 9 बच्चे शामिल थे।
जिओ न्यूज के मुताबिक, अब तक 35 शव निकाले गए हैं। इनमें एक 5 साल का एक बच्चा और एक सीनियर जर्नलिस्ट अंसारी नकवी भी शामिल हैं। बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसीडेंट जफर मसूद भी विमान में सवार थे, हालांकि वे सुरक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हादसे पर दुख जताया और कहा कि अभी हमारी प्राथमिकता राहत और बचाव कार्य हैं।

यह प्लेन कराची में मॉडल कॉलोनी के जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा। वहां कई घरों में आग लग गई। इस इलाके को मलीर भी कहा जाता है। पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी के मुताबिक, पायलट ने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर को इंजन फेल हो जाने के बारे में बताया, लेकिन लैंडिंग से ठीक एक मिनट पहले संपर्क टूट गया।

आखिरी बातचीत में पायलट ने कहा था- इंजिन फेल हो गया

विमान के पायलट की एयर ट्रैफिक कंट्रोल से बातचीत का आखिरी ऑडियो सामने आया है। इसमें पायलट ने कहा था कि इंजिन फेल हो गया है। अधिकारियों ने लैंडिंग के लिए दोनों रनवे खाली करवा लिए थे, लेकिन पायलट ने विमान घुमा दिया। एटीसी का कहना है कि पायलट ने किस वजह से ऐसा किया, यह अभी जांच का विषय है।

पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की

पायलट का नाम सज्जाद गुल है। चश्मदीदों का कहना है कि पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की। इसी वजह से कम घरों को नुकसान पहुंचा। प्लेन में एक को-पायलट और तीन एयर होस्टेस भी थीं। पीआईए के प्रवक्ता ने जियो न्यूज से कहा- यह प्लेन ए-320 था और 15 साल पुराना था। 

प्लेन क्रैश होने के बाद कराची की मॉडल कॉलोनी में कई घरों में आग लग गई।

पाकिस्तान की एयरपोर्ट अथॉरिटी पर सवाल
जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट के काफी पास तक दो से तीन मंजिला मकान बने हुए हैं। जबकि एयरपोर्ट के इतने नजदीक घर बनाने की इजाजत नहीं होनी थी। अगर एयरपोर्ट के पास रिहाइशी इलाके की इजाजत नहीं होती तो शुक्रवार को हुए इस हादसे की वजह से घरों में आग नहीं लगती। 

हादसे के बाद पाकिस्तान आर्मी की क्विक रिएक्शन फोर्स और पाकिस्तान रेंजर्स सिंध की एक टीम मौके पर भेजी गई। हेलिकॉप्टर भी रवाना किए गए। 

तंग गलियों की वजह से फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस को भी मौके पर पहुंचने में दिक्कत आई।

पाकिस्तान में 10 साल में 6 बड़े विमान हादसे

1) 28 जुलाई, 2010- कराची से उड़ान भरने वाली निजी एयरलाइन एयरब्लू  के विमान एयरबस 321 लैंड करने के दौरान इस्लामाबाद के बाहर पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे सभी 152 लोगों की मौत हो गई।
2) पांच नवंबर, 2010- कराची में टेक-ऑफ के कुछ ही समय बाद एक ट्विन इंजन वाला प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें इटली की एक ऑयल कंपनी का स्टाफ था। हादसे में 21 लोग मारे गए।
3) 28 नवंबर, 2010- कराची से उड़ान भरने के बाद जॉर्जियन एयरलाइन सनवे का एलुशइनआईएल-76 कार्गो विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें 12 लोग मारे गए।
4) 20 अप्रैल, 2012-  इस्लामाबाद के बाद भोज एयरबस 737 का एक प्लेन क्रैश हो गया, इसमें क्रू मेंमबर समेत 128 यात्रियों की मौत हुई।
5) आठ मई, 2015- पाकिस्तानी सेना का एक हेलीकॉप्टर गिलगित में क्रैश हो गया। इस दौरान आठ लोग मारे गए। इसमें नार्वे, फिलिपींस, इंडोनेशिया के राजदूत और मलेशिया और इंडोनेशिया के दूत की पत्नी भी शामिल थीं।
6) सात दिसंबर, 2016- चितराल से इस्लामाबाद जाने वाला पीआई का एटीआर-42 एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया। दुर्घटना में क्रू मेंबर समेत 48 यात्री मारे गए।



Categories
sports

हाइवे पर मरा जानवर खाकर भूख मिटाने की तस्वीर सामने आई, कार सवार ने खाना खिलाकर की मदद, वीडियो वायरल


  • जयपुर में खातीपुरा निवासी प्रद्युमन सिंह ने बनाया था दिल्ली हाइवे पर घटना का वीडियो
  • उन्होंने बताया- 18 मई का है यह वीडियो, इसके पीछे मकसद यह कि जरुरतमंद की मदद करें
  • वीडियो वायरल होने पर प्रशासनिक महकमे में हलचल, एसडीएम आमेर को सौंपी मामले की जांच

विष्णु शर्मा

May 22, 2020, 04:56 PM IST

जयपुर. राजस्थान में कोरोना संकट के बीच जयपुर-दिल्ली नेशनल हाइवे पर एक युवक द्वारा मरा हुआ जानवर खाकर अपनी भूख मिटाने की वीभत्स तस्वीर सामने आई है। इस दौरान आसपास मौजूद लोग तमाशबीन होकर युवक को मांस खाकर भूख मिटाते देखते रहे। लेकिन किसी ने उसकी मदद करना मुनासिब नहीं समझा। इस बीच हाइवे से कार में गुजर रहे एक युवक ने यह देखा तो वहीं रुक गया। उसने खानाबदोश युवक को आवाज लगाकर हाइवे से हटाया। उसे अपनी कार में रखा फूड पैकेट, पानी की बोतल व रुपए देकर मदद की। इस बीच इस युवक के हाइवे से हटते ही आवारा कुत्ते मरे हुए जानवर को खाने लगे। इंसानियत को शर्मसार करने वाले इस दृश्य का युवक ने वीडियो भी बनाया। इसमें उसने कहा कि जिंदगी में सब कुछ देखा। लेकिन एक आदमी को ऐसे भूख मिटाते हुए कभी नहीं देखा। मददगार युवक ने वीडियो में अपील भी कि इंसानियत को समझें। किसी जरूरतमंद की मदद करें।

जयपुर के खातीपुरा, झोटवाड़ा निवासी प्रद्युमन सिंह नरुका ने इसका वीडियो बनाने के पीछे का मकसद बताया।

18 मई को बनाया था यह वीडियो

जयपुर के खातीपुरा, झोटवाड़ा निवासी प्रद्युमन सिंह नरुका ने कहा, ‘ इस वीडियो को मैंने 18 मई को बनाया था। मैं अपनी कार से दिल्ली हाइवे से निकल रहा था। तभी सुनसान हाइवे पर देखा कि एक युवक सड़क पर कुछ खा रहा है। करीब पहुंचने पर नजर आया कि वह खानाबदोश युवक मरे हुए जानवर का मांस खा रहा है। यह सब देखकर मैं हैरान रह गया। मैंने अपनी गाड़ी को रिवर्स लिया।’

जानवर का मांस खा रहे युवक को दिल्ली हाइवे से हटाकर प्रद्युमन सिंह ने खाना खिलाया, उससे बाचतीत कर पैसे भी दिए। 

नरुका ने कहा, ‘मैंने देखा कि वहां आसपास मौजूद कुछ लोग यह सब देख रहे थे। लेकिन कोई उसकी मदद करने को तैयार नहीं था। तब मैंने सोचा कि इसका वीडियो बनना चाहिए। ताकि लोगों का पता चल सके कि इंसानियत कहां तक गिर चुकी है। मैंने उस लड़के को तेज आवाज लगाकर बात की। उससे कहा कि यह मत खा। तुझे खाना चाहिए तो मैं तुझे खाना देता हूं। इसके बाद मैंने वहां मौजूद लोगों से भी उस युवक को खाना देकर मदद की बात कही। इस बहाने उसे हाइवे से दूर भी किया। ताकि वह किसी हादसे का शिकार न हो। उसे थोड़ा बहुत पैसे, खाना और पानी दिया।’

भोजन मिलने पर युवक ने जानवर को छोड़ दिया। वह हाइवे के बीच से उठकर किनारे पर आया और खाना खाने लगा।

‘मेरा मकसद सिर्फ इतना ही कि पब्लिक इस दर्द को समझे’

प्रद्युमन सिंह के मुताबिक उन्होंने युवक के पास जाकर खाना खिलाने के दौरान बातचीत की। तब वह मेरी हर बात को समझ रहा था। वह बार-बार पैसे मांग रहा था। बाचतीत से ऐसा लगा मानो वह आंध्रप्रदेश का हो। हालांकि, मैं कंफर्म नहीं कह सकता कि वो कोई मजदूर था या फिर कोई पागल था। लेकिन इन सब बातों से कोई मतलब नहीं है।

प्रद्युमन सिंह ने कहा- मेरा इस वीडियो को बनाकर वायरल करने का मकसद है कि पब्लिक इस दर्द को समझे। जरूरतमंद की मदद करें।

उन्होंने कहा, ‘मुझे सिर्फ इतना मतलब है कि कोई भूखा आदमी मरा हुए जानवर का मांस खा रहा है और इंसानियत वहां खड़े होकर देख रही है। कोई उसे रोटी देने को तैयार नहीं था। जबकि आसपास बस्ती थी। यह पूरा मामला दिल्ली बाइपास से शाहपुरा के पास मानपुरा माचेड़ी का है। मेरा इस वीडियो को बनाकर वायरल करने का मकसद है कि पब्लिक इस दर्द को समझे।’ 

वीडियो वायरल होने पर आमेर एसडीएम ने मामले की जांच शुरू की। अधिकारियों को मौके पर भेजा, लोगों से बातचीत कर जानी सच्चाई।

वीडियो वायरल होने पर आमेर एसडीएम ने शुरू की मामले की जांच

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद मामला जिला कलेक्टर तक पहुंचा तो हलचल मच गई। मामले की जांच एसडीएम आमेर को सौंपी गई। तब एसडीएम लक्ष्मीकांत कटारा के निर्देश पर गुरुवार को स्थानीय अधिकारी मौके पर पहुंचे। उस व्यक्ति और घटना के बारे में आसपास के लोगों से जानकारी जुटाई। फिलहाल उस युवक का पता नहीं लगा है।