Categories
sports

नारकोटिक सैल को दूसरे दिन मिली बड़ी सफलता, 8 किलो हेरोइन और 30 ग्राम अफीम बरामद


  • मंगलवार को 2 किलो 20 ग्राम हेरोइन और 280 ग्राम अफीम बरामद की गई थी
  • नशे की खेप मंगवाने वाले तस्कर को भी पुलिस ने किया गिरफ्तार, पहले भी हैं बॉर्डर क्रॉसिंग और लूटपाट के मामले दर्ज

दैनिक भास्कर

May 28, 2020, 05:43 PM IST

तरनतारन. तरनतारन नार्कोटिक सैल को गुरुवार को दूसरे दिन बड़ी सफलता मिली है। बुधवार को जहां 2 किलो हेरोइन और 280 ग्राम अफीम बरामद हुई थी, वहीं आज 8 किलो हेरोइन तो 30 ग्राम अफीम बरामद की गई है। पुलिस ने पाकिस्तान से नशे की खेप मंगवाने वाले नशा तस्कर को भी गिरफ्तार किया है। अधिकारियों के मुताबिक आरोपी के खिलाफ पहले भी बॉर्डर क्रॉस करने और लूटपाट के मामले दर्ज हैं।
एसएसपी ध्रुव दहिया ने बताया कि नार्कोटिक सैल ने मंगलवार को 2 किलो 20 ग्राम हेरोइन बरामद की थी। गुरुवार को गुप्त सूचना के आधार पर सीमावर्ती क्षेत्र खेमकरण के पिलर नंबर 116 के पास पाकिस्तानी तस्करों द्वारा भारत की ओर खेतों में दबवाई हुई प्लास्टिक की 5 बोतलों में 8 किलो 30 ग्राम हेरोइन और 30 ग्राम अफीम बरामद हुई है। इस केस की इन्वेस्टिगेशन कर पाकिस्तान में नशा तस्करों से संपर्क कर हेरोइन की खेप मंगवाने वाले नशा तस्कर गुरलाल सिंह निवासी गांव रत्तागुढ़ा को भी गिरफ्तार किया है। दोनों दिन में बरामद 10 किलो हेरोइन की खेप उसी ने मंगवाई थी। एसएसपी ग्रुप दहिया ने बताया कि पकड़े गे नशा तस्कर गुरलाल सिंह के खिलाफ थाना खेमकरण में 18 जून 2015 में  बॉर्डर क्रॉस करने की कोशिश के दौरान बीएसएफ पर फायरिंग करने के आरोप में केस दर्ज है। दूसरा केस 10 अक्टूबर 2019 को गैस सिलेंडर कटर की मदद से एटीएम लूटने के आरोप में थाना झब्बाल में दर्ज हुआ था। दोनों केसों में पकड़ा गया आरोपी जमानत पर था। अब फिर अदालत में पेश करके रिमांड पर लिया जाएगा।

Categories
sports

पाकिस्तानी नागरिक ने गुरुद्वारे में तोड़फोड़ की, दीवारों पर लिखा- कश्मीरियों की मदद करो वरना सबको मुश्किल होगी


  • डर्बी में पाकिस्तानी नागरिक ने गुरु अर्जन देव गुरुद्वारे में तोड़फोड़ की, लाखों रुपए का नुकसान
  • गुरुद्वारे ने इस घटना को हेट क्राइम बताया, अधिकारियों ने कहा- रोजाना होने वाली प्रार्थना जारी रहेगी

दैनिक भास्कर

May 26, 2020, 12:32 AM IST

नई दिल्ली/लंदन. डर्बी में सोमवार को पाकिस्तानी नागरिक ने गुरु अर्जन देव गुरुद्वारे में तोड़फोड़ की। पुलिस ने इस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है। गुरुद्वारे के मैनेजमेंट ने बताया कि इस घटना में किसी को चोट नहीं आई है, लेकिन लाखों रुपए का नुकसान हुआ है। 
तोड़फोड़ करने वाले इस शख्स ने गुरुद्वारे की दीवारों पर एख नोट चिपकाया। इसमें कश्मीर के बारे में लिखा गया है। उसने लिखा कि कश्मीरियों की मदद की कोशिश करो, वरना हर किसी को मुश्किल होगी। इस नोट में एक फोन नंबर भी दिया गया है।

‘सभी सेवादारों और कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे’
गुरुद्वारे से जुड़े अधिकारियों ने कहा, “इस तरह का हेट क्राइम या सिखों के खिलाफ किसी भी प्रकार का अपराध हमें सेवा और प्रार्थना करने से नहीं रोक पाएगा। हम समुदाय की सेवा जारी रखेंगे और रोजाना होने वाली प्रार्थना जारी रखेंगे। हम अपने सभी सेवादारों और कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे।”

लंदन में भारतीयों पर हमले होते रहे हैं
लंदन में भारतीयों और भारतीय मूल के लोगों पर हमले बड़े पैमाने पर होते रहे हैं। पिछले साल अगस्त में भारत के 73 वें स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर एकत्रित हुए भारतीयों पर पाकिस्तानी प्रदर्शनकारियों ने अंडे और पानी की बोतलें फेंकने के साथ ही पथराव भी किया था।

Categories
sports

लोगों ने कहा- हमें तो हादसे की आवाज भी नहीं सुनाई दी, छत पर गए तो बस धुआं दिखाई दे रहा था


  • पीआईए का यात्री विमान कराची एयरपोर्ट में लैंडिंग से चंद मिनट पहले मॉडल कॉलोनी में क्रैश हो गया
  • हादसे के दौरान लोगों को लगा कि यह आवाज विमानों के लैंड या टेकऑफ की है, जो यहां के लिए आम बात है

जोया अनवर

May 22, 2020, 11:07 PM IST

कराची. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) का यात्री विमान एक घनी आबादी वाले इलाके मॉडल कॉलोनी में क्रैश हो गया। पीआईए के प्रवक्ता अब्दुल्ला हफीज के मुताबिक, पीआईए की फ्लाइट पीके 803 लाहौर से कराची जा रही थी और इसमें 8 क्रू मेंबर्स समेत 98 लोग सवार थे। हादसे वाली जगह से अब तक 37 शव निकाले जा चुके हैं। इनमें एक 5 साल का बच्चा भी है।

जब प्लेन मॉडल कॉलोनी में क्रैश हुआ, उस वक्त लोगों को लगा कि ये सामान्य पीएमटी धमाका है, जो एयरपोर्ट के नजदीक बसी इस कॉलोनी के लिए आम बात है। यहां रहने वाली सीमा ने कहा कि उन्हें तो इस क्रैश की आवाज भी नहीं सुनाई दी। इसकी वजह यह हो सकती है कि इंजन से आवाज नहीं आ रही थी। उन्हें इस हादसे की खबर फोन पर बहन के जरिए मिली।

सीमा ने बताया कि जब वे बाहर देखने के लिए निकलीं तो हर जगह धुआं था। जल्द ही एम्बुलेंस आ गई। ऐसा लग रहा था, जैसे प्लेन दो इमारतों के बीच फंस गया था। थोड़ी ही देर बाद पावर कट हो गया। इसके बाद रेंजर्स ने रेस्क्यू वाले इलाके में लोगों और मीडिया के आने-जाने पर पाबंदी लगा दी।

क्रैश साइट के करीब मेमन गोथ इलाके में रहने वाली फैजा ने कहा- हादसे की जगह हमारे घर से 7 किलोमीटर दूर है। हम लोग खुशकिस्मत हैं कि उस जगह से दूर थे। लेकिन, जब हम छत पर चढ़े तो हम वहां से धुआं उठता देख रहे थे। यहीं रहने वाली सलमा ने बताया कि मेरे बेटे के साथ पढ़ने वाला एक बच्चा मॉडल कॉलोनी में रहता है। शुक्र है कि वो और उसका परिवार हादसे के वक्त घर पर नहीं था। हम लोग इस हादसे से हिल गए हैं।

बिजली भी बंद
घटना स्थल से दो गली छोड़कर रहने वाली फारिया कहती हैं, “यह दिन भी किसी आमदिन की तरह था। बाहर तेज तपिश है। लिहाजा, हम घर में ही थे। मैं वॉटर पम्प का ऑयल चेंज कर रही थी। अचानक तेज धमाका हुआ। मुझे लगा कि कोई बम धमाका हुआ। बिजली भी बंद हो गई। ऊपर जाकर देखा तो प्लेन क्रैश हुआ था। कुछ ही देर में इलाका आग से घिर गया।”
 
लोगों ने मदद की
फारिया आगे कहती हैं, “लोग मदद कर रहे थे। आग लगी थी इसलिए, बहुत आगे जाना खतरनाक था। रमजान की वजह से लोग अफ्तारी भी बांट रहे थे। अब तक बिजली नहीं आई है। सैनिक लाशें निकाल रहे हैं। मैं अब भी सदमे में हूं कि कैसे अचानक कई लोगों के लिए यह दिन मनहूस बन गया। वो भी ईद से ठीक पहले।”  

नेटवर्क भी बंद
मुनीर भी इसी इलाके में रहते हैं। वो कहते हैं, “जहां हादसा हुआ। उसके करीब ही मेरे दोस्त का घर है। मैंने उसे फोन करने की कोशिश की लेकिन, नेटवर्क की दिक्कत आ गई है। मैंने उसके घर जाने की कोशिश की। लेकिन, इलाका आग और धुएं में घिरा था। एम्बुलेंस और फायर ब्रिगेड मौजूद हैं। लोग वीडियो बना रहे हैं। यहां अब भी क्रेन है। जो मलबा और लाशें हटा रही है।” 

हादसे में बाल-बाल बचे बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसीडेंट

बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसीडेंट जफर मसूद पीआईए के उसी विमान में सवार थे, जो क्रैश हुआ। खुशकिस्मती से वह इस हादसे से बच गए। उनके चाचा मुमताज आलम ने कहा कि मसूद को मॉडल कॉलोनी के लोगों ने मलबे से निकाला। इसके बाद बचाव कर्मियों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया। आलम कहते हैं- यह करिश्मा ही है कि मसूद बच गए। अब उनका परिवार अस्पताल में साथ है। मसूद ने अपनी मां को बताया कि वो सुरक्षित हैं। उनका फोन भी ठीक से काम कर रहा है।

सोशल मीडिया पर पैसेंजर लिस्ट सर्कुलेट होने पर नाराजगी
हादसे के बाद मीडिया और सोशल मीडिया में विमान में सवार यात्रियों की लिस्ट जारी की गई। आमतौर पर सिविल एविएशन अथॉरिटी यह लिस्ट जारी करती है। डिजिटल राइट्स फाउंडेशन नाम का एनजीओ चलाने वाली निगात दाद कहती हैं कि यह निंदनीय काम है, क्योंकि इससे पैसेंजर्स की प्राइवेसी खत्म होती है। जरा उस परिवार के बारे में सोचिए जिसे इन जरियों से विमान में बैठे अपने करीबियों के बारे में पता चला होगा। जरा सोचिए कि वॉट्सऐप पर फॉरवर्ड हुई ऐसी किसी लिस्ट में कोई शख्स लगातार किसी अपने का नाम खोज रहा होगा।निगत ने कहा- केवल क्लिक्स और रेटिंग के लिए कई मीडिया हाउस उसूलों को ताक पर रख देते हैं। मुझे लगता है कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वालों को प्रमाणिकता का भी ख्याल रखना चाहिए, क्योंकि जब वे ट्विटर पर कोई सूचना शेयर करते हैं तो उनका यह कदम लोगों की भलाई की भलाई के काम नहीं आ रहा होता है। इसके उलट ये कदम कई लोगों को मुश्किल में डाल देता है। ऐसे कानून होने चाहिए कि इस तरह के हालात में लोगों की निजता का सम्मान किया जाए, ना कि चंद पलों की शोहरत के लिए ऐसी हरकत की जाए।

इस तरह यात्रियों की लिस्ट का सर्कुलेट होना चिंताजनक- एक्टिविस्ट

एक्टिविस्ट और वरिष्ठ पत्रकार आफिया सलाम ने कहा- इस तरह से लिस्ट का सर्कुलेट होना चिंताजनक है। जब मुख्यधारा का मीडिया इस तरह से जानकारियां शेयर करता है, तो उसे इतनी आसानी ने नहीं बख्शा जाना चाहिए। उन्हें तो इसे रोकने वालों की भूमिका में होना चाहिए था। चैनलों पर इस तरह से यात्रियों का नाम लिया जाना बेहद असंवेदनशील है। मुझे लगता है कि इसमें नियामक संस्थाओं को दखल देना चाहिए। पाकिस्तान ने अतीत में भी ऐसी त्रासदियों को देखा है। हर बार मीडिया इसी तरह के अपमानजनक काम करता है। इन्हें उसूलों, लोगों की निजता का ख्याल रखना चाहिए, लेकिन लगता है कि अतीत की घटनाओं से इन्होंने कोई सबक नहीं लिया है।

Categories
sports

पाकिस्तान ने कहा- भारत में इस्लामोफोबिया फैलाया जा रहा है; मालदीव का जवाब- सोशल मीडिया की हरकतें 130 करोड़ भारतीयों की राय नहीं


  • यूएन में ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) की वर्चुअल मीटिंग हुई
  • पाकिस्तान ने हमेशा की तरह भारत को घेरने की साजिश रची, मालदीव ने दो टूक जवाब दिया

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 11:40 PM IST

न्यूयॉर्क. पाकिस्तान को एक बार फिर दो बड़े मंचों पर मुंह की खानी पड़ी। यूएन में ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) की वर्चुअल मीटिंग हुई। पाकिस्तान ने इसमें आरोप लगाया कि भारत में इस्लामोफोबिया फैलाया जा रहा है। मालदीव ने दो टूक शब्दों में पाकिस्तान की साजिश को न सिर्फ नाकाम कर दिया बल्कि उसे आईना भी दिखाया। मालदीव ने कहा- सोशल मीडिया पर चंद लोग जो हरकतें या बयानबाजी करते हैं, उसे 130 करोड़ भारतीयों की राय नहीं समझा जा सकता। 

पाकिस्तान की साजिश

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, हाल के दिनों में देखा गया है कि सोशल मीडिया पर कई पाकिस्तानी यूजर्स भारत के खिलाफ प्रोपेगंडा चला रहे हैं। इसमें कहा जा रहा है कि भारत में मुस्लिमों के लिए कोई जगह नहीं बची। वहां इस्लामोफोबिया फैल रहा है। भारत में पाकिस्तान की इस हरकत को साजिश के तौर पर देखा जा रहा है। दरअसल, पाकिस्तान झूठ फैलाकर भारत और अरब देशों के बीच खाई पैदा करना चाहता है। अरब देशों की बड़ी हस्तियों को भारत के खिलाफ भड़काने की साजिश हो रही है। ओआईसी में भी पाकिस्तान ने यही चाल चली। उसके प्रतिनिधी मुनीर अकरम में भारत पर कई आरोप लगाए।

20 करोड़ मुस्लिम हैं भारत में
पाकिस्तान की इन हरकतों का जवाब मालदीव ने दिया। यूएन में उसकी स्थायी प्रतिनिधी थिलमीजा हुसैन ने कहा, “कुछ भटके हुए लोगों द्वारा सोशल मीडिया पर फैलाई गई बातें भारत के 130 करोड़ लोगों की राय नहीं हो सकती। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है। वहां कई धर्मों के लोगों के अलावा 20 करोड़ मुस्लिम भी रहते हैं। ऐसे में इस्लामोफोबिया की बात करना ही बेकार है। क्योंकि, इसमें कोई तथ्य नहीं है।” 

भारत का दूसरा बड़ा मजहब है इस्लाम
मालदीव की प्रतिनिधी ने कहा, “भारत में सदियों से इस्लाम है। वहां हर मजहब के लोग मिलजुलकर रहते हैं। किसी को यह नहीं भूलना चाहिए कि इस्लाम भारत का दूसरा सबसे बड़ा मजहब है। भारत की कुल आबादी का 14.2 फीसदी मुस्लिम हैं। मालदीव ओआईसी में ऐसी किसी कार्रवाई का समर्थन नहीं करेगा जो भारत के खिलाफ हो।” बता दें कि पिछले कुछ साल में भारत और मालदीव के रिश्ते काफी मजबूत हुए हैं। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने सबसे पहला मालदीव का ही दौरा किया था।

Categories
sports

कराची एयरपोर्ट पर लैंडिंग से महज एक मिनट पहले रिहायशी इलाके में पैसेंजर प्लेन क्रैश, 98 लोग सवार थे; 5 साल के बच्चे समेत 35 शव निकाले गए


  • लैंडिंग से पहले प्लेन का इंजन फेल हो गया था, उसमें धमाके के साथ आग लग गई थी
  • पीआईए का यह प्लेन 15 साल पुराना था, पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की थी

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 07:10 PM IST

कराची. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस का एक पैसेंजर प्लेन शुक्रवार को कराची के रिहाइशी इलाके में क्रैश हो गया। पीआईए की फ्लाइट पीके 8303 लाहौर से कराची आ रही थी। एयरपोर्ट से एक किलोमीटर की दूरी पर और लैंडिंग से करीब एक मिनट पहले प्लेन का इंजन फेल हो गया। उसमें आग लग गई और वह जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट पहुंचने से पहले ही क्रैश हो गया। प्लेन में 91 यात्री और 7 क्रू मेंबर में सवार थे। इनमें 51 पुरुष, 31 महिलाएं और 9 बच्चे शामिल थे।
जिओ न्यूज के मुताबिक, अब तक 35 शव निकाले गए हैं। इनमें एक 5 साल का एक बच्चा और एक सीनियर जर्नलिस्ट अंसारी नकवी भी शामिल हैं। बैंक ऑफ पंजाब के प्रेसीडेंट जफर मसूद भी विमान में सवार थे, हालांकि वे सुरक्षित हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने हादसे पर दुख जताया और कहा कि अभी हमारी प्राथमिकता राहत और बचाव कार्य हैं।

यह प्लेन कराची में मॉडल कॉलोनी के जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा। वहां कई घरों में आग लग गई। इस इलाके को मलीर भी कहा जाता है। पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी के मुताबिक, पायलट ने एयर ट्रैफिक कंट्रोलर को इंजन फेल हो जाने के बारे में बताया, लेकिन लैंडिंग से ठीक एक मिनट पहले संपर्क टूट गया।

आखिरी बातचीत में पायलट ने कहा था- इंजिन फेल हो गया

विमान के पायलट की एयर ट्रैफिक कंट्रोल से बातचीत का आखिरी ऑडियो सामने आया है। इसमें पायलट ने कहा था कि इंजिन फेल हो गया है। अधिकारियों ने लैंडिंग के लिए दोनों रनवे खाली करवा लिए थे, लेकिन पायलट ने विमान घुमा दिया। एटीसी का कहना है कि पायलट ने किस वजह से ऐसा किया, यह अभी जांच का विषय है।

पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की

पायलट का नाम सज्जाद गुल है। चश्मदीदों का कहना है कि पायलट ने प्लेन को रिहाइशी इलाके से दूर ले जाने की कोशिश की। इसी वजह से कम घरों को नुकसान पहुंचा। प्लेन में एक को-पायलट और तीन एयर होस्टेस भी थीं। पीआईए के प्रवक्ता ने जियो न्यूज से कहा- यह प्लेन ए-320 था और 15 साल पुराना था। 

प्लेन क्रैश होने के बाद कराची की मॉडल कॉलोनी में कई घरों में आग लग गई।

पाकिस्तान की एयरपोर्ट अथॉरिटी पर सवाल
जियो न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, जिन्ना इंटरनेशनल एयरपोर्ट के काफी पास तक दो से तीन मंजिला मकान बने हुए हैं। जबकि एयरपोर्ट के इतने नजदीक घर बनाने की इजाजत नहीं होनी थी। अगर एयरपोर्ट के पास रिहाइशी इलाके की इजाजत नहीं होती तो शुक्रवार को हुए इस हादसे की वजह से घरों में आग नहीं लगती। 

हादसे के बाद पाकिस्तान आर्मी की क्विक रिएक्शन फोर्स और पाकिस्तान रेंजर्स सिंध की एक टीम मौके पर भेजी गई। हेलिकॉप्टर भी रवाना किए गए। 

तंग गलियों की वजह से फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस को भी मौके पर पहुंचने में दिक्कत आई।

पाकिस्तान में 10 साल में 6 बड़े विमान हादसे

1) 28 जुलाई, 2010- कराची से उड़ान भरने वाली निजी एयरलाइन एयरब्लू  के विमान एयरबस 321 लैंड करने के दौरान इस्लामाबाद के बाहर पहाड़ियों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिससे सभी 152 लोगों की मौत हो गई।
2) पांच नवंबर, 2010- कराची में टेक-ऑफ के कुछ ही समय बाद एक ट्विन इंजन वाला प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें इटली की एक ऑयल कंपनी का स्टाफ था। हादसे में 21 लोग मारे गए।
3) 28 नवंबर, 2010- कराची से उड़ान भरने के बाद जॉर्जियन एयरलाइन सनवे का एलुशइनआईएल-76 कार्गो विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसमें 12 लोग मारे गए।
4) 20 अप्रैल, 2012-  इस्लामाबाद के बाद भोज एयरबस 737 का एक प्लेन क्रैश हो गया, इसमें क्रू मेंमबर समेत 128 यात्रियों की मौत हुई।
5) आठ मई, 2015- पाकिस्तानी सेना का एक हेलीकॉप्टर गिलगित में क्रैश हो गया। इस दौरान आठ लोग मारे गए। इसमें नार्वे, फिलिपींस, इंडोनेशिया के राजदूत और मलेशिया और इंडोनेशिया के दूत की पत्नी भी शामिल थीं।
6) सात दिसंबर, 2016- चितराल से इस्लामाबाद जाने वाला पीआई का एटीआर-42 एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया। दुर्घटना में क्रू मेंबर समेत 48 यात्री मारे गए।



Categories
sports

जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा प्लेन, कई घरों में आग लगने के बाद चीख-पुकार मच गई


  • पीआईए का क्रैश होने वाला विमान 15 साल पुराना था, कराची एयरपोर्ट पर उतरते वक्त हुआ हादसा
  • घरों में फंसे लोगों को बचाने के लिए रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है

दैनिक भास्कर

May 22, 2020, 05:56 PM IST

कराची. पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स का एक पैसेंजर प्लेन शुक्रवार को कराची एयरपोर्ट के पास क्रैश हो गया। प्लेन में क्रू मेंबर्स समेत 98 लोग सवार थे। पाकिस्तान मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिस वक्त यह विमान क्रैश हुआ, उस वक्त वह एयरपोर्ट से महज एक किलोमीटर दूर था। प्लेन मॉडल कॉलोनी के जिन्ना गार्डन इलाके में गिरा। वहां कई मकानों में आग लग गई और पूरा इलाका धुएं से भर गया। इसके बाद वहां चीख-पुकार मच गई।

कराची में विमान हादसे के बाद उठता धुआं, इस प्लेन में क्रू मेंबर समेत 98 लोग सवार थे। फोटो- द डॉन

विमान हादसे के बाद कई घर मलबे में बदल गए। पाकिस्तान के ईधी फाउंडेशन के सदस्य बचावा कार्य करते हुए। फोटो- जिओ टीवी 
 रिहाइशी इलाके में प्लेन क्रैश होने से कई घर उसकी चपेट में आ गए और उनमें आग लग गई, जिसमें कई लोग फंस गए। फोटो- जिओ टीवी 
प्लेन जिस इलाके में क्रैश हुआ उसे मलीर भी कहा जाता है। यहां कई वाहन आग की चपेट में आ गए। फोटो- जिओ टीवी
हादसे के बाद घरों में फंसे लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू अभियान चलाया जा रहा है।- फोटो जिओ टीवी

प्लेन क्रैश होने के बाद इलाके में आग बुझाते दमकल कर्मी। 
 हादसा एयरपोर्ट से लगे रिहाइशी इलाके में हुआ, इसलिए जान-माल के बड़े नुकसान की आशंका है।
Categories
sports

इमरान सरकार की वेबसाइट पर पीओके को भारत का हिस्सा दिखाया गया, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने कहा- देर आए, दुरुस्त आए


  • कोरोना की जानकारी देने के लिए पाकिस्तान सरकार ने covid.gov.pok नाम से वेबसाइट बनाई है
  • सरकार की इस ऑफिशियल वेबसाइट में नक्शे में जम्मू कश्मीर को बताया भारत का राज्य

दैनिक भास्कर

May 21, 2020, 05:58 PM IST

नई दिल्ली. पाकिस्तान सरकार ने कोरोनावायरस की जानकारी देने के लिए एक वेबसाइट बनाई है। इसमें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) को भारत का हिस्सा बताया गया है। अभी तक पीओके पर पाकिस्तान अपना अधिकार जताता रहा है और वहां की सुप्रीम कोर्ट ने वहां पर चुनाव कराए जाने का आदेश दिया था। इस पर भारत ने कड़ा विरोध दर्ज कराया था। अब सरकारी वेबसाइट पर ही पीओके को इमरान सरकार ने भारत का हिस्सा बताया है।
covid.gov.pok नाम से बनाई गई इस वेबसाइट में ग्राफिक्स के जरिए कोरोना के संक्रमण का दायरा बताया गया है। इस पर नक्शे की फोटो देखने के बाद ही पाकिस्तान की सरकार को यूजर्स ने ट्विटर पर ट्रोल करना शुरू कर दिया। यूजर तंज कस रहे हैं कि देर आए, दुरुस्त आए।

पुलवामा और जम्मू के मौसम की जानकारी दे रहा था पाकिस्तान, पर यहां भी गलती की
भारत ने 8 मई से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के गिलगित और बाल्टिस्तान के मौसम का पूर्वानुमान देना शुरू कर दिया है। इसके जवाब में पाकिस्तान ने भी लद्दाख, पुलवामा, जम्मू के मौसम की भविष्यवाणियां करनी शुरू कर दीं। पहले ही दिन पाकिस्तान ने खुद का मजाक बनवा लिया। दरअसल, पाकिस्तान रेडियो ने लद्दाख के तापमान को लेकर ट्वीट किया। इसमें उसने अधिकतम तापमान -4 डिग्री और न्यूनतम तापमान -1 डिग्री लिखा। ट्विटर ने पाकिस्तान पर तंज कसते हुए कहा- “यह गलत है। अधिकतम तापमान -1 डिग्री और न्यूनतम तापमान -4 डिग्री होना चाहिए।” पाकिस्तान रेडियो ने जम्मू और पुलवामा के मौसम के बारे में भी अनुमान ट्वीट किए हैं।

भारत ने कहा था- गिलगित-बाल्टिस्तान हमारा अभिन्न हिस्सा
भारत ने पाकिस्तान के कब्जे वाले गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराए जाने के आदेश का कड़ा विरोध किया था। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि पूरे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के अलावा गिलगित-बाल्टिस्तान भी भारत का अभिन्न हिस्सा है। लिहाजा, पाकिस्तान इसे फौरन खाली कर दे। उसका यहां कब्जा गैरकानूनी है।

Categories
sports

गिलगित-बाल्टिस्तान में बांध बनाने पर भारत के विरोध के बाद कहा- इस परियोजना से सबको लाभ होगा


  • चीन की चाइना पॉवर और पाकिस्तान की फ्रंटियर वर्क्स ऑर्गनाइजेशन कंपनी मिलकर इस बांध को बना रही हैं
  • भारत ने इस मामले पर विरोध जताते हुए कहा था कि पीओके भारत का अभिन्न अंग है, वहां कोई निर्माण ठीक नहीं है

दैनिक भास्कर

May 15, 2020, 07:01 PM IST

बीजिंग. चीन और पाकिस्तान मिलकर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के गिलगित-बाल्टिस्तान में सिंधु नदी पर दियामर बाशा बांध बना रहे हैं। गुरुवार को भारत ने इसे लेकर कड़ा विरोध जताया। इस मामले पर चीन ने सफाई देते हुए कहा है कि इससे स्थानीय लोगों को लाभ मिलेगा। यह परियोजना सभी के हित में है।

चीन की कंपनी के साथ पाकिस्तान ने कॉन्ट्रैक्ट किया
पाकिस्तान की सरकार ने बुधवार को 444 अरब (पाकिस्तानी रुपए) का कॉन्ट्रैक्ट चीनी फर्म चाइना पॉवर और फ्रंटियर वर्क्स ऑर्गनाइजेशन (एफडब्ल्यूओ) के साथ साइन किया। बता दें एफडब्ल्यूओ पाकिस्तानी सेना की कमर्शियल विंग है, जो बांध आदि का निर्माण करती है। भारत ने गुरुवार को गिलगित-बाल्टिस्तान में बांध बनाने के लिए पाकिस्तान के इस मेगा-कॉन्ट्रैक्ट का विरोध करते हुए कहा था कि पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले क्षेत्र में इस तरह की परियोजनाएं ठीक नहीं हैं।

चीने के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा, ‘‘कश्मीर मुद्दे पर चीन की स्थिति स्थिर है। चीन और पाकिस्तान आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और स्थानीय लोगों की भलाई के लिए आर्थिक सहयोग कर रहे हैं। यह सबके लिए फायदे का सौदा है।’’ चीन और पाकिस्तान लगभग 60 अरब डॉलर  (चार हजार 572 करोड़ रुपये) की लागत से चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपेक) भी बना रहे हैं। यह कॉरिडोर भी पीओके से होकर ही गुजरता है। भारत ने इस पर भी आपत्ति जताई है।

भारत ने कहा था- पूरा जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग
गुरुवार को भारत के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि हमारी स्थिति एकदम स्पष्ट है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न और अविभाज्य अंग रहे हैं और रहेंगे। हमने पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले भारतीय क्षेत्रों में ऐसी सभी परियोजनाओं पर पाकिस्तान और चीन दोनों के साथ अपना विरोध जताते रहेंगे।

2010 से चल रही है बांध बनाने की कोशिश
पाकिस्तान इस बांध को बनाने की कोशिश 2010 से कर रहा है, लेकिन हर बार रुपयों की तंगी आ जाने की वजह से उसे पीछे हटना पड़ा था। अब चीन इसमें पार्टनर बन गया है, जिससे रुपयों की किल्लत खत्म हो गई। इसमें चीन की चाइना पॉवर की 70 प्रतिशत हिस्सेदारी, जबिक पाकिस्तान की फ्रंटियर वर्क्स ऑर्गनाइजेशन की 30 प्रतिशत हिस्सेदारी है।

Categories
sports

सेना प्रमुख नरवणे बोले- पाकिस्तान ने ही नया आतंकी संगठन टीआरएफ खड़ा किया, भारत-चीन सीमा पर तनाव कोई नई बात नहीं


  • नरवणे ने कहा, टीआरएफ का मतलब द रेजिस्टेंस फोर्स नहीं बल्कि टेरर रिवाइवल फ्रंट है, इसे पाकिस्तान फंडिंग कर रहा है
  • बोले- जम्मू कश्मीर पर लोगों का बेवजह ध्यान खींचने के लिए पाकिस्तान दहशत फैलाने का काम कर रहा है

दैनिक भास्कर

May 14, 2020, 08:33 AM IST

नई दिल्ली. थल सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने बुधवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में सक्रिय हुआ नया आतंकी संगठन द रेजिस्टेंस फोर्स (टीआरएफ) पाकिस्तान ने ही खड़ा किया है। इसे भी वहीं से फंडिंग मिलता है। नरवणे ने कहा, ” मैं टीआरएफ को ”टेरर रिवाइवल फ्रंट” मानता हूं। इस तरह के कई संगठन जम्मू कश्मीर में सक्रिय हैं। इन सभी की जड़ें सीमा पार यानी पाकिस्तान में ही है। इनसे भी उसी तरह से निपटेंगे जैसे की अन्य आतंकी संगठनों से। उधर, भारत-चीन सीमा पर तनाव पर कहा कि यह कोई नई बात नहीं है। ये फेस-ऑफ पहले भी हुए हैं। इनसे निपटने के लिए प्रोटोकॉल हैं। हम स्थानीय (फील्ड) कमांडर्स के स्तर पर और सैन्य डेलीगेशन लेवल पर बातचीत करते हैं और इनसे निपट लेते हैं।

कश्मीर पर ध्यान खींचने के लिए पाकिस्तान दहशत फैला रहा
सेना प्रमुख ने कश्मीर में अचानक बढ़ी आतंकी घटनाओं को लेकर कहा कि ये भी मौसम के साथ ही घटते-बढ़ते रहते हैं। अभी जम्मू कश्मीर में मौसम सही है तो आतंकी घटनाएं बढ़ गई हैं। सर्दी होते ही काफी हद तक ये कम हो जाती हैं। लेकिन हर परिस्थिति से निपटने के लिए सुरक्षा बल तैयार है। उन्होंने कहा कि इन दिनों इस तरह की घटनाओं में पाकिस्तान की भूमिका ज्यादा बढ़ गई है। वह जम्मू कश्मीर पर सबका ध्यान खींचने के लिए दहशत फैलाने का काम कर रहा है। 

सेना प्रमुख ने ये बातें भी कहीं-

  • जो अभी पूर्वी-लद्दाख और सिक्किम में फेस-ऑफ हुए, ये इत्तेफाक है कि एक साथ हुएं हैं। इनमें कोई कनेक्शन नहीं है।
  • पैट्रोलिंग के दौरीन दोनों देशों के सैनिक एक-दूसरे के सामने आ जाते हैं, तो फेस-ऑफ होते रहते है।
  • इंडियन आर्मी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ को पूरा समर्थन करती है। 
  • इसी के सपोर्ट में इंडियन आर्मी के 70-75 प्रतिशत ऑर्डर भारतीय कंपनियों के हैं। 
Categories
sports

जावेद मियांदाद बोले- कर्ज नहीं चुकाया तो हमारा एटम बम ले जाएगा आईएमएफ, इसे बचाने के लिए मैं भीख मांग रहा हूं


  • मियांदाद ने एक वीडियो में कहा- मैंने नया बैंक अकाउंट खुलवाया है, हर पाकिस्तानी उसमें पैसा डाले
  • जावेद भारत के मोस्ट वॉन्टेड दाऊद इब्राहिम के समधी भी हैं, कश्मीर मुद्दे पर उकसाऊ बयानबाजी की थी

दैनिक भास्कर

May 10, 2020, 12:06 PM IST

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान जावेद मियांदाद के मुताबिक, मुल्क पर बढ़ते कर्ज की वजह से उसके एटमी हथियार खतरे में हैं। जावेद ने कहा- अगर हमने आईएमएफ जैसे संगठनों का कर्ज नहीं चुकाया तो वो हमारा एटम बम ले जाएंगे। इतना ही नहीं, मियांदाद ने इन कर्जों को चुकाने के लिए एक बैंक अकाउंट भी खोल लिया है और उसमें लोगों से पैसा जमा करने की अपील की। इस पूर्व बल्लेबाज ने कहा- मैं लोगों से मुल्क की खातिर भीख मांग रहा हूं।

लूटने वाले अब मुल्क बचाएं
मियांदाद ने शनिवार रात ट्विटर पर एक वीडियो जारी किया। कहा, “मैंने नेशनल बैंक ऑफ पाकिस्तान में एक अकाउंट खुलवाया है। मैं आप लोगों से भीख मांगता हूं कि इसमें पैसा जमा करें ताकि हमारा एटम बम बचाया जा सके। अगर हमने आईएमएफ जैसे संगठनों का कर्ज नहीं लौटाया तो वो इस बम को ले जाएंगे। मैं जानता हूं कि इस देश के लोगों ने अपने ही मुल्क को खूब लूटा है। अब वक्त है जब वो मुझे भीख देकर अपने पापों का प्रायश्चित कर सकते हैं। विदेश में रहने वाले पाकिस्तानी भी अब फर्ज निभाएं।”
 
इंटरनेशनल बैंक अकाउंट
मियांदाद भारत के मोस्ट वॉन्टेड दाऊद इब्राहिम के समधी हैं। वीडियो में वो आगे कहते हैं, “मेरा नया अकाउंट इंटरनेशनल है और इसका इस्तेमाल सिर्फ मैं करूंगा। हम आईएमएफ का कर्ज चुकाएंगे। लोग हर महीने इसमें पैसा डिपॉजिट करें। हमारे ऊपर पहले ही बहुत कर्ज है। अगर अब हम आईएमएफ से कर्ज लेने जाएंगे तो वो सबसे पहले हमारे एटमी हथियार यानी हमारा बम मांगेंगे। इसे बचाना है तो उनका पैसा वापस करना होगा। इसके लिए मैं आपसे भीख मांग रहा हूं।” 

इमरान से करीबी और दूरी
कश्मीर मुद्दे पर मियांदाद ने प्रधानमंत्री इमरान खान का साथ दिया था। सड़कों पर मार्च भी निकाला। हालांकि, मैदान पर दोनों के रिश्ते कभी अच्छे नहीं रहे। आरोप है कि इमरान के इशारे पर वकार यूनिस और वसीम अकरम ने जावेद के खिलाफ टीम में गुटबाजी की थी। इसके बाद मियांदाद को कप्तानी छोड़नी पड़ी थी। जावेद 1992 में वर्ल्ड कप जीतने के बाद पैसों के बंटवारे को लेकर भी इमरान पर आरोप लगा चुके हैं। इमरान उस टीम के कप्तान थे। 



Categories
sports

इंजमाम ने कहा- होटल के पास हुए धमाके ने सबको डरा दिया था, न्यूजीलैंड के खिलाड़ी रोने लगे थे


  • पूर्व पाकिस्तानी कप्तान इंजमाम उल हक ने कहा- किसी खिलाड़ी को चोट नहीं पहुंची, लेकिन सभी डर गए थे
  • 2002 में कराची की शेराटोन होटल के पास फिदायीन हमला हुआ था, जिसमें 14 लोगों की जान गई थी

दैनिक भास्कर

May 08, 2020, 10:41 PM IST

पूर्व पाकिस्तानी कप्तान इंजमाम उल हक ने कहा कि 2002 में न्यूजीलैंड और पाकिस्तान टीम की होटल के पास हुए बम धमाके ने सबको डरा दिया हुआ था। अपने यूट्यूब चैनल पर इंजमाम ने कहा कि धमाके के वक्त होटल में मौजूद न्यूजीलैंड के खिलाड़ी रोने लगे थे। उन्होंने कहा कि इस घटना में किसी भी खिलाड़ी को कोई चोट नहीं पहुंची, लेकिन सभी डर गए थे।

इंजमाम ने कहा, ‘‘मेरा रूम उस हादसे वाली जगह के बिल्कुल पास था, जहां बम धमाका हुआ था। शुक्रगुजार हूं कि मैं उस वक्त कमरे में ही था। इस वक्त खिड़की का कांच टूटकर दूसरी तरफ दीवार पर जाकर लगा था।’’

न्यूजीलैंड टीम सीरीज रद्द कर वतन लौट गई थी
2002 में कराची की शेराटोन होटल के पास फिदायीन हमला हुआ था, जिसमें 14 लोगों की जान गई थी। यह धमाका विस्फोटक से भरी एक कार में हुआ था। इस घटना के बाद पाकिस्तान-न्यूजीलैंड सीरीज को रद्द कर दिया था। साथ ही कीवी टीम तुरंत ही अपने देश लौट गई थी।

‘ज्यादातर नाश्ते के लिए जाने वाले थे’
इंजमाम ने कहा, ‘‘जिस समय यह घटना हुई थी, तब हम लोग मैदान पर जाने के लिए निकलने ही वाले थे। ज्यादातर खिलाड़ी नाश्ते के लिए जाने वाले थे। हमने कुछ सुना, लेकिन समझ नहीं पाए की हुआ क्या। मैंने गार्ड से पूछा, तो उसने बताया कि यहां पास में बम धमाका हुआ है। मैंने सभी से बेसमेंट में जाने के लिए कहा। तब मैंने देखा कि न्यूजीलैंड के खिलाड़ी स्वीमिंग पूल में नहा रहे थे। वे सभी रो रहे थे। उन खिलाड़ियों ने कभी इस तरह का अनुभव नहीं किया था।’’

Categories
sports

देश में खेल से जुड़े सामान के बाजार को 4700 करोड़ के घाटे की आशंका, अगले साल मार्च में ही हालात सुधरने की उम्मीद


  • देश का 70% स्पोर्ट्स मार्केट जालंधर से जुड़ा, मेरठ से देश का 45% गुड्स निर्यात होता है
  • क्रिकेट का सामान बनाने वाली कंपनियों के 2 हजार करोड़ रु. डूबे, अन्य खेलों के मार्केट को 1500 करोड़ रु. घाटा

एकनाथ पाठक

May 08, 2020, 08:13 AM IST

औरंगाबाद. कोरोनावायरस से देश का स्पोर्ट्स मार्केट बुरी तरह प्रभावित हुआ है। गर्मी में समर कैंप और अन्य खेलकूद की गतिविधियां होती थीं। वे भी लॉकडाउन के कारण शुरू नहीं हुईं। खेल के व्यापार और बाजार से जुड़े विशेषज्ञों की मानें तो देश में खेल से जुड़े सामान की इंडस्ट्री को 4700 करोड़ रु. का नुकसान होने की आशंका है। इसमें देश में बिकने वाले सामान के अलावा निर्यात होने वाले सामान की भी हिस्सेदारी है।

लॉकडाउन से संकट खड़ा हुआ

जालंधर में पूरे देश का 70% स्पोर्ट्स गुड्स बनता है। विशेषज्ञ कह रहे हैं कि इंडस्ट्री की हालत अब मार्च में ही सुधरेगी। मेरठ के हिंद स्पोर्ट्स के मालिक कुलदीप सिंंह कहते हैं, ‘इस साल ओलिंपिक सहित कई बड़े स्पोर्ट्स इवेंट होने वाले थे। मांग ज्यादा रहती इसलिए मार्केट भी पूरी तरह से तैयार था। लेकिन लॉकडाउन से संकट खड़ा हो गया। इससे उबरने में पूरा एक साल लगने वाला है।’

देश के खेल सामान का 60% निर्यात होता है 

भारतीय स्पोर्ट्स गुड्स मैन्युफैक्चररर्स के अनुसार, देश में बनने वाले खेल सामान का 60% निर्यात होता है। मेरठ से निर्यात होने वाले सामान का हिस्सा 45% है। अप्रैल में मेरठ की कंपनियों को 200 करोड़ का नुकसान हुआ है। 

अकेले मेरठ-जालंधर में 50 लाख मजदूर 
जालंधर और मेरठ में कुल 4 हजार से ज्यादा कंपनियां है। ये इंडस्ट्री कुल 319 खेल सामग्री का निर्माण करती हैं। यहां करीब 50 लाख मजदूर-कारीगर काम करते हैं। इन्हें एक दिन की मजदूरी 300-400 रुपए मिलती है।  

नुकसान की राज्यवार स्थिति

राज्य कितना नुकसान (रुपए में)
महाराष्ट्र     200 करोड़
राजस्थान     150 करोड़
मध्यप्रदेश 150 करोड़ 
पंजाब   100 करोड़ 
गुजरात  100 करोड़ 
उत्तरप्रदेश    60 करोड़
प.बंगाल   50 करोड़
छत्तीसगढ़   40 करोड़  

2 हजार करोड़ के क्रिकेट मार्केट का विकेट गिरा 
इस साल क्रिकेट के सामान की बहुत ज्यादा खपत होने वाली थी क्योंकि आईपीएल के अलावा टी20 वर्ल्ड कप भी होना था। लेकिन इनके आयोजन पर संकट है। ऐसे में क्रिकेट के बाजार को दो हजार करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान है। इसमें भी क्रिकेट गुड्स की कंपनियों का 1300 करोड़ का स्पोर्ट्स इक्विपमेंट निर्यात होने वाला था।

ये सामान बनकर गोदामों में पड़ा 

सामान संख्या 
बल्ले  3.5 लाख
गेंद  2.7 लाख
विकेट  80 हजार
पैड्स  90 हजार
ग्लव्स 1 लाख 
हेलमेट 1.25 लाख
किट  2 लाख

अन्य खेलों के मार्केट को 1500 करोड़ रु. का घाटा

फुटबॉल, बैडमिंटन, शतरंज, हॉकी, टेनिस, एथलेटिक्स, टेटे, वॉलीबॉल, फेंसिंग आदि खेलों का सामान बनाने वाले कारोबारियों के 1500 करोड़ डूबने की आशंका है। निर्यात न होने से इन खेलों का सामान भी गोदामों में भरा है। स्पोर्ट्सवियर बनाने वाली कंपनियों को भी 500 करोड़ का नुकसान हुआ है।

इन खेलों के बाजार को बड़ा नुकसान

खेल नुकसान (करोड़ रु. में)
क्रिकेट 2000 
फुटबॉल  1200
टेनिस  500
बास्केटबॉल 300 
बॉक्सिंग और फेंसिंग 200
स्पोर्ट्स वियर 500
Categories
sports

खिलाड़ियों के प्रदर्शन के मामले में आईपीएल दुनिया की टाॅप टी-20 लीग, पांच लीग का इंपैक्ट इंटरनेशनल मैचों से भी ज्यादा


  • क्रिकबज ने अलग-अलग लीग में खेलने वाले दुनिया के 4500 खिलाड़ियों के प्रदर्शन का एनालिसिस किया
  • पाकिस्तान सुपर लीग और बिग बैश का भी असर इंटरनेशनल टी-20 से ज्यादा

दैनिक भास्कर

May 07, 2020, 01:47 AM IST

मुंबई. मौजूदा समय में कई खिलाड़ी अब इंटरनेशनल क्रिकेट की जगह टी-20 लीग को तरजीह दे रहे हैं। आईपीएल पैसे के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी लीग तो है ही। खिलाड़ियों के प्रदर्शन के हिसाब से भी टॉप लीग है।

विजडन में छपे क्रिकबज के एनालिसिस को देखें तो आईपीएल का इंपैक्ट दुनिया की अन्य सभी लीग से ज्यादा है। क्रिकबज ने दुनिया के 4500 खिलाड़ी जो अलग-अलग लीग खेलते हैं, उनके प्रदर्शन के आधार पर यह डेटा तैयार किया गया है। पाकिस्तान सुपर लीग और ऑस्ट्रेलिया के बिग बैश लीग के खिलाड़ियों का इंपैक्ट टी20 इंटरनेशनल से ज्यादा है। 

खिलाड़ी के प्रदर्शन में बदलाव का आकलन किया

उन खिलाड़ियों के प्रदर्शन को देखा, जिन्होंने कई टूर्नामेंट में हिस्सा लिया। खिलाड़ी के हर टूर्नामेंट में प्रदर्शन में बदलाव का आकलन किया। जैसे श्रीलंका का बल्लेबाज देश में अच्छा प्रदर्शन करता है, लेकिन पाक लीग (पीएसएल) में संघर्ष करता है, तो हम अनुमान लगा सकते हैं कि पीएसएल श्रीलंका में हुए टूर्नामेंट की अपेक्षा अच्छा है। यदि कोई इंग्लिश गेंदबाज भारत में संघर्ष कर रहा है तो आईपीएल को टी20 ब्लास्ट से अच्छा माना।  

विदेशी खिलाड़ियों के कारण लीग इंटरनेशनल मैच से बेहतर 

टी-20 लीग के इंपैक्ट को देखें तो यह इंटरनेशनल से अच्छा है, वजह- इंटरनेशनल टीमें केवल अपने देश के खिलाड़ियों का चयन कर सकती हैं, जबकि लीग में दुनिया भर के खिलाड़ियों को उतारा जा सकता है। जैसे पाक लीग से तेेज गेंदबाज मिलते हैं। बल्लेबाजी को मजबूत करने के लिए टीम विदेशी खिलाड़ियों को शामिल कर लेती हैं।

सभी फॉर्मेट के लिए अलग खिलाड़ी होते हैं, कोचिंग स्टाफ एक ही रहता है
{इंटरनेशनल टीम को टी-20 के अलावा क्रिकेट के दूसरे फॉर्मेट पर ध्यान देना होता है। सभी फॉर्मेट के लिए अलग खिलाड़ी होते हैं, लेकिन कोचिंग स्टाफ एक ही रहता है। वहीं, टी-20 लीग में टीम सिर्फ टी-20 पर ध्यान देती हैं। उनके कोचिंग स्टाफ की भी इसी फॉर्मेट के लिए विशेषज्ञता होती  है। 

दुनिया की आठ टी-20 लीग के प्रभाव को इन छह आधार पर समझा जा सकता है- 

1. टीम की संख्या: जितनी अधिक टीमें रहेंगी, अच्छे खिलाड़ी बंट जाएंगे। आईपीएल, बांग्लादेश लीग, बिग बैश लीग में 8-8 टीम, द. अफ्रीका की मजांशी लीग, पीएसएल, कैरेबियन प्रीमियर लीग, न्यूजीलैंड के सुपर स्मैश में 6-6 जबकि इंग्लैंड के टी20 ब्लास्ट में 18 टीमें हैं।

2. टीम का उद्देश्य: जहां टीम सिर्फ टी-20 खेलती हैं, उनका प्रदर्शन अच्छा रहता है।

3. मालिकाना हक: अमीर टीमें अच्छे खिलाड़ियों को टीम में रखती हैं। आईपीएल, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज और पाकिस्तान की लीग ऐसी हैं। अन्य लीग फंड आधारित हैं।

4. अच्छे घरेलू खिलाड़ी: जिस देश का घरेलू स्ट्रक्चर अच्छा रहता है। वहां अच्छे खिलाड़ी मिलते हैं।  

5. अच्छे विदेशी खिलाड़ी: आईपीएल में अधिक पैसा होने के कारण अच्छे खिलाड़ी इसे प्राथमिकता देते हैं।

6. खिलाड़ियों का कॉन्ट्रैक्ट: आईपीएल में नीलामी के कारण कई खिलाड़ियों को बेस प्राइस से अधिक राशि मिलती है। अन्य लीग में ड्राफ्ट के हिसाब से पैसे दिए जाते हैं। 

‌निष्कर्ष: आईपीएल कई बोर्ड की तुलना में काफी आगे है। इसे नेशनल और इंटरनेशनल विंडो भी दी जाती है। अन्य लीग में इंटरनेशनल विंडो नहीं है। टी20 ब्लास्ट सबसे पुरानी लीग होने के बाद भी इंपैक्ट नहीं छोड़ सकी।