Categories
sports

69 नए पॉजिटिव मिले, पानीपत में बाल पुनर्वास केंद्र में 4 बच्चों समेत कुक और एक महिला संक्रमित


  • अमेरिका से लौटे 76 लोगों में से 21 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हरियाणा में कुल 750 मरीज ठीक हुए, 44 केस पॉजिटिव हुए

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 08:18 PM IST

पानीपत. हरियाणा में अमेरिका से पहुंचे 76 लोगों में से 21 के कोरोना पॉजिटिव आने पर प्रदेश के कुल कोरोना संक्रमित मरीजों के आंकड़े में उछाल आ गया है। प्रदेश में शनिवार को 69 कुल पॉजिटिव आए, इसके बाद अब प्रदेश में कुल संक्रमित का आंकड़ा 1141 हो गया है। वहीं 44 मरीज ठीक भी हुए हैं, जिसके बाद कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 750 हो गए हैं।  

शनिवार को गुड़गांव में 12, फरीदाबाद में 10, पानीपत में 7, जींद में 3, करनाल में 4, सोनीपत में 3, हिसार में 3, फरीदाबाद में 2, भिवानी में 2, पलवल में 1,कुरुक्षेत्र में 1 और अमेरिका से लौटे 21 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले। रिकवर करने वाले 44 मरीजों में फरीदाबाद और सोनीपत में 11-11, गुड़गांव में 9, नूंह में 5, जींद में 3, फतेहाबाद में 2, रोहतक में 2, झज्जर में 1 मरीज ठीक हुआ। 
पानीपत में 7 नए केस आए

शनिवार को पानीपत में 7 नए केस सामने आए हैं। इनमें से छह केस शिव नगर में स्थित बाल पुनर्वास केंद्र से जुड़े हैं। यहां रह रहे चार बच्चे, एक कुक और एक महिला जो बच्चों की देखभाल करती थी, वो कोरोना पॉजिटिव मिली है। इसके अलावा एक केस गंगाराम कॉलोनी से आया है। इसके बाद अब पानीपत में कुल मरीजों की संख्या 27 हो गई है। 

करनाल में चारों पॉजिटिव का दिल्ली कनेक्शन

करनाल में शनिवार को चार पॉजिटिव मरीज मिले। सभी का दिल्ली कनेक्शन है। चमन गार्डन का परिवार एक सप्ताह पहले दिल्ली कार्यक्रम में गए थे, शुक्रवार को टेस्ट कराया तो परिवार के तीनों सदस्य पॉजिटिव मिले। चौथा केस खेड़ा गांव का है। 30 वर्षीय युवक पॉजिटिव मिला है। यह युवक नोएडा में एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता है। शुक्रवार को नोएडा से आने के बाद टेस्ट कराया तो पॉजिटिव मिला है। करनाल में अब तक 27 मरीज पॉजिटिव आए हैं। 

भिवानी में दो नए केस, हरियाणा पुलिस का जवान भी संक्रमित

  • भिवानी में शनिवार को 2 पॉजिटिव केस आए। इनमें गुड़गांव से आई एक महिला और तिगड़ाना गांव निवासी हरियाणा पुलिस का जवान है, जो गुड़गांव में ड्यूटी दे रहा था। फिलहाल, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कोरोना संक्रमित महिला और उसके संपर्क के लोगों को आईसोलेट कर दिया है और पुलिस जवान के परिजनों को घर पर क्वारैंटाइन कर दोनों गांवों में नाकेबांदी कर दी है। 

  • पॉजिटिव मिली 51 वर्षीय महिला गुड़गांव के खांडसा गांव से भिवानी के रेवाड़ी खेड़ा गांव में अपनी बेटी से मिलने आई हुई थी। वहीं तिगड़ाना निवासी 27 वर्षीय युवक हरियाणा पुलिस में कांस्टेबल है और फिलहाल गुड़गांव के डीएलएफ फेस-2 में तैनात है। कोरोना संक्रमित महिला व उसके संपर्क के 7 लोगों को चौ. बंसीलाल नागरिक अस्पताल में आईसोलेट किया गया है। 

शनिवार को फरीदाबाद में 10 नए केस आए

फरीदाबाद में कोरोना के 10 पॉजिटिव मामले के बाद यहां संक्रमितों की संख्या 195 हो गई है। शनिवार को आठ पॉजिटिव में तीन लोग एक ही परिवार के बताए गए हैं।  

हरियाणा में मरीजों का आंकड़ा 1141 पहुंचा

  • अमेरिका से लौटे 21 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले। इनके साथ-साथ सबसे ज्यादा गुरुग्राम में 262, फरीदाबाद में 195, सोनीपत में 154, झज्जर में 91, नूंह में 65, अंबाला में 42, पलवल में 41, पानीपत में 53, पंचकूला में 26, जींद में 26, करनाल में 27, रोहतक में 15, महेंद्रगढ़ में 21, रेवाड़ी में 11, सिरसा में 9, फतेहाबाद, व यमुनानगर में 8-8, हिसार में 12, कुरुक्षेत्र में 15, भिवानी में 6, कैथल में 5, चरखी-दादरी में 6, भिवानी में 8 संक्रमित मरीज हैं। इसके अलावा, मेदांता अस्पताल गुड़गांव में 14 इटली के नागरिकों को भी भर्ती करवाया गया था, जिन्हें हरियाणा ने अपनी सूची में जोड़ा है।

  • हरियाणा में अब कुल 750 मरीज ठीक हो गए हैं। इनमें गुरुग्राम में 140, फरीदाबाद में 115, सोनीपत में 1116, नूंह में 65, झज्जर में 90, अंबाला में 40, पलवल 37, पानीपत में 32, पंचकूला में 24, जींद में 18, करनाल में 11, यमुनानगर में 8, सिरसा में 8, रोहतक में 9, महेंद्रगढ़ में 4, भिवानी में 4,  हिसार में 3, कैथल में 3, फतेहाबाद में 5, कुरुक्षेत्र में 2, चरखी दादरी में 1 मरीज ठीक होकर घर लौट चुका है। 14 मरीज इटली के भी ठीक हुए हैं।
Categories
sports

14 नए मरीज आए, 1 मरीज को अस्पताल से छुट्टी, अब 16 दिन में मरीज हो रहे डबल


  • कुरुक्षेत्र में 4, सोनीपत में 5, फरीदाबाद में 4 और झज्जर में 1 नया मरीज मिला
  • हरियाणा में अब 328 एक्टिव मरीज मौजूद, गुड़गांव में अब भी सबसे ज्यादा

दैनिक भास्कर

May 20, 2020, 02:45 PM IST

पानीपत. हरियाणा में कोरोना मरीजों की संख्या 978 पहुंच गई है। बुधवार को 14 नए मरीज मिले हैं। सोनीपत में 5, कुरुक्षेत्र में 4, फरीदाबाद में 4 और झज्जर में 1 मरीज मिला है। प्रदेश में 1 मरीज को अस्पताल से छुट्टी मिली, इसके बाद अब 628 मरीज अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। 336 एक्टिव मरीज मौजूद हैं। 

हरियाणा में अभी तक 83,944 के भेजे जा चुके हैं सैंपल

हरियाणा में अभी तक 83,944 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। 4595 सैंपल की रिपोर्ट का अभी इंतजार है। 978 सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 628 रिकवर कर चुके हैं। 14 मरीजों की मौत हो चुकी है। मौजूदा रिकवरी रेट 64.74 फीसदी है। मरीजों का डबलिंग रेट 16 दिन पहुंच गया है। 

हरियाणा में मरीजों का आंकड़ा 978 पहुंचा

  • सबसे ज्यादा गुरुग्राम में 220, फरीदाबाद में 167, सोनीपत में 144, झज्जर में 91, नूंह में 65, अंबाला में 42, पलवल में 40, पानीपत में 40, पंचकूला में 25, जींद में 21, करनाल में 20, रोहतक में 12, महेंद्रगढ़ में 10, रेवाड़ी में 9, सिरसा, फतेहाबाद, व यमुनानगर में 8-8, हिसार में 9, कुरुक्षेत्र में 7, भिवानी में 6, कैथल में 5, चरखी-दादरी में 6, भिवानी में 3 संक्रमित मरीज हैं। इसके अलावा, मेदांता अस्पताल गुड़गांव में 14 इटली के नागरिकों को भी भर्ती करवाया गया था, जिन्हें हरियाणा ने अपनी सूची में जोड़ा है।

  • प्रदेश में अब कुल 628 मरीज ठीक हो गए हैं। इनमें गुरुग्राम में 114, फरीदाबाद में 86, सोनीपत में 100, नूंह में 60, झज्जर में 60, अंबाला में 40, पलवल 36, पानीपत में 31, पंचकूला में 24, जींद में 15, करनाल में 9, यमुनानगर में 8, सिरसा में 8, रोहतक में 4, महेंद्रगढ़ में 4, भिवानी में 4,  हिसार में 3, कैथल में 3, फतेहाबाद में 2, कुरुक्षेत्र में 2, चरखी दादरी में 1 मरीज ठीक होकर घर लौट चुका है। 14 मरीज इटली के भी ठीक हुए हैं।
Categories
sports

मोदी की अपील- आज से हर भारतीय लोकल के लिए वोकल बने, देश के लोग न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदें, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करें


  • प्रधानमंत्री ने कहा- महामारी से उपजे संकट के इस दौर में हमें लोकल ने ही बचाया
  • मोदी ने कहा- लोकल सिर्फ जरूरत नहीं, बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है

दैनिक भास्कर

May 12, 2020, 10:55 PM IST

नई दिल्ली.  प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन के दौर में मंगलवार को पांचवीं बार राष्ट्र के नाम संबोधन दिया। उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया। साथ ही, लोकल प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने की अपील की। उन्होंने कहा- हमें लोकल के लिए वोकल (vocal about local) होना पड़ेगा। यानी आज से हर भारतवासी को न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “कोरोना ने हमें लोकल मैन्यूफैक्चरिंग, लोकल सप्लाई चेन और लोकल मार्केटिंग का भी मतलब समझा दिया है। लोकल ने ही हमारी डिमांड पूरी की है। हमें इस लोकल ने ही बचाया है। लोकल सिर्फ जरूरत नहीं, बल्कि हम सबकी जिम्मेदारी है।’’

इसे जीवन मंत्र बनाएं
मोदी ने आगे कहा, “समय ने हमें सिखाया है कि लोकल को हमें अपना जीवन मंत्र बनाना ही होगा। आपको जो आज ग्लोबल ब्रांड लगते हैं, वो भी कभी ऐसे ही लोकल थे। जब वहां के लोगों ने उनका इस्तेमाल और प्रचार शुरू किया। उनकी ब्रांडिंग की, उन पर गर्व किया तो वे प्रोडक्ट्स लोकल से ग्लोबल बन गए। इसलिए, आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए वोकल बनना है। न सिर्फ लोकल प्रोडक्ट्स खरीदने हैं, बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है। आपके प्रयासों ने तो हर बार आपके प्रति मेरी श्रद्धा को और बढ़ाया है।’’

लोकल की मिसाल भी दी
प्रधानमंत्री ने स्थानीय उत्पादों यानी लोकल प्रोडक्ट्स को लेकर खादी की मिसाल दी। कहा, “मैं गर्व के साथ एक बात महसूस करता हूं, याद करता हूं। जब मैंने आपसे, देश से खादी खरीदने का आग्रह किया था। तब ये भी कहा था कि देश के हैंडलूम वर्कर्स को सपोर्ट करें। आप देखिए, बहुत ही कम समय में खादी और हैंडलूम, दोनों की ही डिमांड और बिक्री रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। इतना ही नहीं, उसे आपने बड़ा ब्रांड भी बना दिया। बहुत छोटा सा प्रयास था, लेकिन परिणाम मिला, बहुत अच्छा परिणाम मिला।’’ 

इफिशिएंसी और क्वॉलिटी का मंत्र
प्रधानमंत्री ने रिफॉर्म्स पर भी जोर दिया। कहा, “रिफॉर्म खेती की चेन से भी जुड़ेंगे, ताकि किसान भी सशक्त हो और कोरोना जैसे संकट में खेती पर कम से कम असर हो। यह रिफॉर्म मजबूत फाइनेंशियल सिस्टम के निर्माण के लिए भी होंगे। ये निवेश को आकर्षित करेंगे और मेक इन इंडिया के सपने को साकार करेंगे। आत्मनिर्भरता दरअसल, आत्मबल और आत्मविश्वास से ही संभव है। आत्मनिर्भरता ग्लोबल सप्लाई चेन की स्पर्धा में देश को तैयार करेगी। इसे समझते हुए आर्थिक पैकेज में कई प्रावधान किए गए हैं। इससे हमारे सभी सेक्टर्स की इफिशिएंसी बढ़ेगी और क्वालिटी भी तय होगी।’’

Categories
sports

मोदी आज रात 8 बजे देश को संबोधित करेंगे, 54 दिन में यह उनका पांचवां संदेश; लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान कर सकते हैं


  • लॉकडाउन फेज-4 पर कोई भी फैसला लेने के पहले पहले मोदी ने सोमवार को मुख्यमंत्रियों से करीब 6 घंटे बातचीत की थी
  • देश में अब तक तीन लॉकडाउन लग चुके हैं, पहला 25 मार्च से 14 अप्रैल, दूसरा 15 अप्रैल से 3 मई और तीसरा 4 मई से 17 मई

दैनिक भास्कर

May 12, 2020, 01:07 PM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार रात 8 बजे देश को संबोधित करेंगे। देश में लॉकडाउन के 54 दिन में यह उनका पांचवां देश के नाम संदेश होगा। पहली बार उन्होंने 19 मार्च को देश को संबोधित किया था। इस बार वे लॉकडाउन के चौथे फेज पर बातचीत कर सकते हैं। लॉकडाउन फेज-4 पर कोई भी फैसला लेने के पहले पहले मोदी ने सोमवार को मुख्यमंत्रियों से करीब 6 घंटे बातचीत की थी।

कोरोना की वजह से देश पहला लॉकडाउन 25 मार्च से 14 अप्रैल तक और दूसरा लॉकडाउन 15 अप्रैल से 3 मई तक रखा गया था। इसके बाद तीसरे फेज का लॉकडाउन 4 मई से 17 मई तक है।

लॉकडाउन 4.0 संभव: पाबंदियां कम, रियायतें बढ़ेंगी 

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को देश के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की थी। इसमें उन्होंने मुख्यमंत्रियों से 15 मई तक यह बताने को कहा है कि वे अपने राज्य में कैसा लॉकडाउन चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ 6 घंटे चर्चा की। 7 राज्यों महाराष्ट्र, बिहार, पंजाब, तेलंगाना, प. बंगाल, हिमाचल और असम ने लॉकडाउन बढ़ाने की पैरवी की। वहीं, बिहार, तेलंगाना और तमिलनाडु ने ट्रेनें चलाने पर सवाल उठाए। गुजरात ने लॉकडाउन सिर्फ कंटेनमेंट जोन तक सीमित रखने की बात कही। 
  • मोदी ने कहा, ‘हम अर्थव्यवस्था खोलने पर काम कर रहे हैं। अभी हमारी सबसे बड़ी चुनौती यह है कि कोरोना का संक्रमण गांवों तक ना पहुंचे। मैं सभी मुख्यमंत्रियों से अपील करता हूं कि आप मुझे एक विस्तृत योजना बनाकर दें कि अपने राज्यों में आप लॉकडाउन पीरियड से कैसे निपटेंगे। मैं चाहता हूं कि राज्य एक ब्लू प्रिंट बनाएं जिसमें लॉकडाउन और उसमें धीरे-धीरे राहत दिए जाने के दौरान उन सभी बारीकियों का जिक्र हो, जिनका सामना राज्यों करना होगा।’

कोरोना पर अब तक मोदी के 4 संदेश

  • पहला: प्रधानमंत्री ने 19 मार्च को देश को संबोधित किया था और जनता कर्फ्यू लगाने की बात कही थी। 22 मार्च को देशभर में सबकुछ बंद रहा। शाम को लोगों ने घरों के अंदर से ही कोरोना फाइटर्स का ताली और थाली बजाकर आभार जताया था।
  • दूसरा: मोदी ने 24 मार्च को संबोधित किया और कोरोना संक्रमण रोकने के लिए 25 मार्च से 14 अप्रैल तक देशव्यापी लॉकडाउन का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि कोरोना की चेन तोड़ने के लिए लोग घरों में रहने की लक्ष्मण रेखा का पालन करें।
  • तीसरा: प्रधानमंत्री मोदी ने 3 अप्रैल को एक वीडियो संदेश जारी किया। इस दौरान लोगों से 5 अप्रैल की रात 9 बजे 9 मिनट के लिए घरों की लाइट बंद कर घरों में दीये, मोमबत्ती और मोबाइल की लाइट जलाकर एकजुटता दिखाने की अपील की थी।
  • चौथा: प्रधानमंत्री मोदी 14 अप्रैल को एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित किया था। प्रधानमंत्री ने कहा था कि जान है तो जहान है। जब मैंने राष्ट्र के नाम संदेश दिया था, तो शुरुआत में इस पर जोर दिया था कि हर नागरिक की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन बहुत जरूरी है। देश के ज्यादातर लोगों ने बात को समझा और घरों में रहकर दायित्व निभाया।