Blog

मुंबई में सबसे ज्यादा कोरोना टेस्ट किए जा रहे, अब अपने गांव के कॉलेज में ही मेडिकल छात्र परीक्षाएं दे सकेंगे; राज्य में रिकवरी रेट 45.06% पहुंचा

लॉकडाउन में मिली छूट के बाद मुंबई के मरीन ड्राइव पर सैकड़ों की संख्या में लोग मॉर्निंग वाॅक के लिए निकले थे। इस दौरान नियम पालन करवाने के लिए पुलिस की कई टीमों को वहां तैनात किया गया है।
sports

मुंबई में सबसे ज्यादा कोरोना टेस्ट किए जा रहे, अब अपने गांव के कॉलेज में ही मेडिकल छात्र परीक्षाएं दे सकेंगे; राज्य में रिकवरी रेट 45.06% पहुंचा

[ad_1]

  • मुंबई में अब 2 लाख 12 हजार कोरोना टेस्ट किए जा चुके, इनमें 47,354 संक्रमित पाए गए
  • राज्य में कुल 42,600 एक्टिव केस, अब तक 2969 लोगों की कोरोनावायरस से मौत हुई

दैनिक भास्कर

Jun 07, 2020, 11:10 AM IST

मुंबई. महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण लगातार भयावह रूप लेता जा रहा है। रविवार तक कोरोना के मरीजों की संख्या 82 हजार के पार पहुंच गई। पिछले 24 घंटे में 2,739 नए केस सामने आए। इसके साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 82,968 हो गई। वहीं, 120 मरीजों की मौत की पुष्टि हुई। मरने वालों का आंकड़ा 2,969 हो गया है। राज्य में अब तक एक्टिव मरीजों की कुल संख्या 42,600 है। राज्य में अब तक कुल 5,37,124 सैंपल की जांच की गई है।

मुंबई में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 47,354 तक पहुंच गई। यहां अब तक कुल 1577 लोगों की मौत हो चुकी है। 2,234 मरीजों के ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई। अब तक 37,390 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 

संक्रमण से बचने और लोगों को जागरूक करने के लिए मुंबई की सड़कों पर इस तरह के स्लोगन लिखे गए हैं।

महाराष्ट्र में रिकवरी रेट 45.06 प्रतिशत
रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल पूरे राज्य में करीब 5,46,566 लोगों को होम क्वारैंटाइन किया गया है। पूरे राज्य में 75,741 इंस्टीट्यूशनल क्वारैंटाइन सेंटर हैं। यहां 29,098 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में बताया गया कि महाराष्ट्र में आज रिकवरी रेट बढ़कर 45.06 प्रतिशत हो गया है।

धारावी में कोरोना के सिर्फ 10 नए केस
मुंबई के धारावी में शनिवार को कोरोनावायरस संक्रमण के 10 नए मामले आए। इसके साथ इलाके में कुल संक्रमितों की संख्या 1899 हो गई। बृह्न्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) के एक अधिकारी ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोरोनावायरस से कोई मौत नहीं हुई। अब तक संक्रमण से 71 लोगों की जान जा चुकी है।

मुंबई में हो रहे सबसे ज्यादा टेस्ट
देशभर में सबसे ज्यादा कोरोना मरीजों के टेस्ट मुंबई में हो रहे हैं। बीएमसी की ओर से प्रतिदिन औसतन 4 हजार टेस्ट किए जा रहे हैं। 3 फरवरी को मुंबई में पहले कोरोना की जांच की गई और 11 मार्च को पहला कोरोना संक्रमित मरीज पाया गया। 3 फरवरी से 6 मई के बीच मुंबई में 1 लाख जांचें की गईं। जबकि 1 जून को 2 लाख तक जांच पहुंच गई। यानी 6 मई से 1 जून के बीच सिर्फ 25 दिन में प्रतिदिन 4 हजार की दर से 1 लाख जांच पूरी हुई हैं। महानगर पालिका की ओर से बताया गया कि मुंबई में अब तक 2 लाख 12 हजार जांच की जा चुकी है। 

22 मेडिकल लैब में हो रही है जांचें
मुंबई में 22 मेडिकल लैब में कोरोना की जांच की जा रही है। इसमें महानगर पालिका की 3, राज्य सरकार की 5 और 14 निजी लैब का शामिल हैं। सभी लैब में प्रतिदिन जांच की क्षमता करीब 10 हजार है। महानगर क्षेत्र में मुंबई छोड़कर अन्य मनपा और राज्य के अन्य इलाकों के मरीजों की जांच भी इन लैबों में की जाती है।

मुंबई के मरीन ड्राइव पर कोई बैठे ना, इसलिए प्रशासन की ओर से इस तरह के पोस्टर जगह-जगह चिपकाएं गए हैं।

‘रेमडेसीवीर’ के 10 हजार डोज खरीदेगी सरकार
कोरोना के गंभीर रूप से ग्रस्त मरीजों के इलाज के लिए राज्य सरकार 10 हजार ‘रेमडेसीवीर’ इंजेक्शन खरीदेगी। यह घोषणा राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को की। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ‘रेमडेसीवीर’ इंजेक्शन एंटि वायरल इंजेक्शन है और इसका इस्तेमाल सार्स जैसी बीमारी के लिए किया जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, बहुत संभावना है कि यह कोरोना पर भी असरकारक साबित होगा। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इंजेक्शन की खरीद सीएसआर फंड से की जाएगी। इस इंजेक्शन की कीमत काफी ज्यादा है, इसलिए आम मरीज इस इंजेक्शन को नहीं खरीद सकता। लिहाजा, सरकार ने इसे खरीदने का फैसला किया है।

कोरोना अपडेट:

  • मुंबई में कोरोना पीड़ित मृत्यु की दर नियंत्रण में है। 18 से 24 मई की अवधि में 280 कोरोना के मरीजों की मौत हुई। जबकि 25 से 31 मई के बीच 270 लोगों की मौत हुई। मुंबई में कोरोना से मरने वालों की संख्या नहीं बढ़ी है।
  • शॉपिंग के लिए पूरे मुंबई में मशहूर दादर में दुकानें रात 8 बजे तक खोलने की अनुमति मिल गई है। अब इसी तर्ज पर महानगर के तमाम व्यापारी असोसिएशनों ने दुकानें खोलने का समय शाम 5 बजे से बढ़ाकर रात 8 बजे तक करने की मांग की है।
  • ठाणे में बढ़ते कोरोना मरीजों की संख्या को नियंत्रित करने के लिए महानगर पालिका ने केरल से 100 डॉक्टरों और 300 नर्सों, अन्य पैरा मेडिकल स्टाफ की मांग की है। 
  • सोमवार से शुरू होने जा रहे दफ्तरों को लेकर बेस्ट बसों के कर्मचारियों को निर्देश जारी किया गया है कि वे किसी यात्री को बस में चढ़ने से रोकें नहीं। इस पर बेस्ट वर्कर्स यूनियन की ओर से कहा गया है कि प्रशासन के आदेश के कारण सोशल डिस्टेंसिंग को रोकना मुश्किल होगा। 
  • लॉकडाउन के लगभग 70 दिन के बाद वसई (पूर्व) स्थित स्टील कारखाने धीरे-धीरे खुलने लगे हैं, लेकिन उनमें काम करने के लिए मजदूर नहीं हैं। व्यापारियों का कहना है कि अब तो मजदूर खोजने पर भी नहीं मिल रहे हैं। वसई (पूर्व) में छोटे-बड़े 4,000 से अधिक कारखाने हैं। 
  • विराज प्रोफाइल्स कंपनी ने कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे मुंबई पुलिसकर्मियों को 40 हजार मास्क दिए हैं। कंपनी के एमडी नीरज कोच्चर ने मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह से मुलाकात कर उन्हें मास्क सौंपे। 
  • राज्य सरकार ने प्राइवेट लैब में कोरोना टेस्ट के रेट नए सिरे से तय करने का फैसला किया है। इसके लिए सरकार ने एक समिति गठित की है, जो अगले 7 दिन में नए रेट का निर्धारण करेगी।
  • स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस समिति को सरकार ने सिर्फ 7 दिन का समय दिया है इन 7 दिनों में यह समिति विभिन्न आयामों पर विचार कर प्राइवेट लैब में कोरोना टेस्ट की नई दरें तय करेगी। इस समिति के गठन का शासनादेश जारी कर दिया गया है।
लगातार कम होते जा रहे मामलों के बीच मुंबई के धारावी में एक महिला के स्वाब टेस्ट के लिए सैंपल लेता बीएमसी स्वास्थ्यकर्मी।

अपने गांव के कॉलेज में परीक्षाएं दे सकेंगे मेडिकल छात्र
कोरोना संकट को देखते हुए राज्य के सभी मेडिकल छात्रों की परीक्षाएं उनके गांवों के आसपास के कॉलेज अथवा जहां वे पढ़ाई कर रहे हैं, वहां परीक्षा देने की सुविधा होगी। मेडिकल परीक्षाओं का पहला प्रश्नपत्र 15 जुलाई को होगा। परीक्षा की पूरी समय सारिणी और परीक्षा केंद्रों की सूची जल्द ही विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर जारी की जाएगी। छात्र अपनी सुविधा के अनुसार परीक्षा केंद्र बदलने के लिए आवेदन कर सकते हैं। महाराष्ट्र आरोग्य विज्ञान विश्वविद्यालय परीक्षा नियंत्रक ए.जी. पाठक ने सभी मेडिकल काॅलेज के डीन और प्राचार्य को परीक्षाओं के संबंध में सूचना दे दी है।

5 आईएएस अधिकारियों को सौंपी गई प्राइवेट हॉस्पिटल्स की जिम्मेदारी
बीएमसी कमिश्नर आईएस चहल ने प्राइवेट हॉस्पिटल में लोगों को बेड उपलब्ध हों, इसके लिए पांच आईएएस अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी है। यदि हॉस्पिटल कोरोना मरीजों को बेड नहीं उपलब्ध कराते हैं, तो लोग उन हॉस्पिटल के खिलाफ ईमेल से शिकायत कर सकते हैं। इनमें मदन नागरगोजे, अजित पाटील, राधाकृष्णन, सुशील खोडवेकर और प्रशांत नारनवरे शामिल हैं।

पुलिसवालों में संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच नईगांव पुलिस के कर्मचारियों ने ब्लड डोनेट किया।

पहले 300 कंटेनमेंट जोन थे, अब 30 बचे 
नवी मुंबई मनपा क्षेत्र में अब सिर्फ 30 कंटेनमेंट जोन रह गए हैं। शुरू में इनकी संख्या करीब 300 थी, जो घटकर 111 तक आ गई थी। सरकार के नए दिशा-निर्देशों के बाद अब महानगर पालिका क्षेत्र में कंटेनमेंट जोन काफी घट गए हैं। कंटेनमेंट जोन से बाहर आए इलाके और कॉलोनियों की सड़कें फिर से खोल दी गईं हैं। नए नियमों के अनुसार, अब जिस इमारत में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलता है, सिर्फ उसी इमारत को कंटेनमेंट किया जाता है। उस इलाके की अन्य इमारतों को खुला रखा जाता है। इसी तरह झोपड़पट्टियों में किसी एक घर में पॉजिटिव मरीज के मिलने पर उसका घर ही प्रतिबंधित किया जाता है।

[ad_2]

Leave your thought here

Your email address will not be published. Required fields are marked *